सोमवार, 9 मार्च 2009

इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!


यह बहुत चालाक सभ्यता है
यहाँ चिड़ियों को दाने डाले जाते हैं
और चिड़ियों को मारने के लिये बंदूकें भी बनती हैं

यहाँ बलत्कृत स्त्री
अदालत में पुनः एक बार कपड़े उतारती है

इस सभ्यता के पास
स्त्री को कोख में ही मार देने की पूरी गारंटी है


यहाँ पहली बरसात में
वर्षों की प्रतीक्षा से बनी गाँव की ओर
जाने वाली सड़क बह जाती है

सबसे बड़ी बात है...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!

................................................

चित्र गुगल सर्च इंजन से साभार
....................................................................

59 टिप्‍पणियां:

विनय ने कहा…

होली की आपको और आपके परिवार में समस्त स्वजनों को हार्दिक शुभकामनाएँ

kaptan ने कहा…

kunsi sabhyata he..????
ye to bataieye.......

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत सुंदर ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

vishnu sah ने कहा…

सबसे बड़ी बात है...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!

Sach kaha !

Pawan Nishant ने कहा…

holi ki aur jhankrat kar dene wali nayee kavita ki aapko dil se shubhkamana.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Sandhya ji
शशक्त रचना........सच में पिरोया हुवे शब्द,
गहरी सोच, समाज का सही चित्रं खींचा है आपने.

आपको और आपके परिवार को होली मुबारक

अशोक कुमार पाण्डेय ने कहा…

विसंगतियो का सटीक चित्रण

hempandey ने कहा…

'सबसे बड़ी बात है...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!'
-हमेशा की तरह एक बढ़िया रचना के लिए साधुवाद.

Dr. Ajay Shukla ने कहा…

Hamare samaj ki visangatiyon ko bahut dhardar tarike se ujagar kiya hai aapne is kavita ke dwara.
Sadhuwad.

Bahadur Patel ने कहा…

यहाँ पहली बरसात में
वर्षों की प्रतीक्षा से बनी गाँव की ओर
जाने वाली सड़क बह जाती है

सबसे बड़ी बात है...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!

bahut badhiya kavita hai.
apako holi ki shubh kamanayen.

creativekona ने कहा…

संध्या जी ,
आपकी हर कविता अपने आप में एक सम्पूर्ण कहानी होती है कम शब्दों में लिखी हुई .
होली की मंगल कामनाएं
हेमंत कुमार

सुशील कुमार ने कहा…

रंग-पर्व की शुभकामनायें।

अरविन्द श्रीवास्तव ने कहा…

होली मंगलमय हो, बेहतरीन कविता - पुनर्नवा में भी पढा था, बधई!

dwij ने कहा…

आपको भी होली मुबारिक हो.

बहुत सफल कविता के लिए बधाई.
इस तथाकथित सभ्यता को आदिम सभ्यता भी नहीं कह सकते.
हाँ, शायद फर्ज़ी बाड़ा
सही शब्द है.

सबसे बड़ी बात है...
इस (कु)सभ्यता के पास अनुकूल (कु)तर्क है!
जो विवेक की आँखों पर पट्टी बँधवा देते हैं
.

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

आप को भी रंगो भरी होली मुबारक। साथ ही रचना बेहतरीन है। अच्छा लगा यहाँ आकर।

MUFLIS ने कहा…

aap sb ko HOLI ki shubhkaamnaaeiN

aaj ke halaat ki dur-dashaa ka
steek chitran karti hui ek kaamyaab
kavita......
abhinandan . . . .
---MUFLIS---

अभिन्न ने कहा…

रंगों उमंगों और तरंगों के त्योहार होळी की आपको सपरिवार मंगलकामनाएं

अनुपम अग्रवाल ने कहा…

सही खाका खीँचा है .

सब गलत हो तो भी तर्क के बल पर सही कहलायेगा

G M Rajesh ने कहा…

bahut jabardast baat likhi hai dhanywaad

होली की आपको और आपके परिवार में समस्त स्वजनों को हार्दिक शुभकामनाएँ

rewa ने कहा…

Aapko bhi holi mnubarak ho!

manu ने कहा…

संध्या जी,...ख़ुशी ख़ुशी होली मुबारक कहने आया था,पर जो कविता आपने पढ़वाई है,,,,तो काफी सोचने को विवश हो गया,,,,,
द्विज जी ने सही कहा ,,,
इस कुसभ्य्ता के पास कुतर्क भी हैं,,,,

cg4bhadas.com ने कहा…

होली की ढेरो शुभकामनाएं। होली के इस रंग-बिरंगे पर्व पर आपको व् आपके परिवार के समस्त सदस्यों को हार्दिक बधाई ........

Dr. Vijay Tiwari "Kislay" ने कहा…

संध्या जी
एकदम सही प्रस्तुति.
फिर भी प्रजातान्त्रिक तरीके से चुनी सरकार भी पीछ्ली
सरकार का ही अनुशरण करती. अर्थात इधर कुआ उधर खाई
अब चिंतन करो, क्या करें भाई......

"इस सभ्यता के पास
स्त्री को कोख में ही मार देने की पूरी गारंटी है"
-विजय

shyam kori 'uday' ने कहा…

बेहद सशक्त व प्रभावशाली रचना है, प्रसंशनीय।

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

सबसे बड़ी बात है...
इस (कु)सभ्यता के पास अनुकूल (कु)तर्क है!
जो विवेक की आँखों पर पट्टी बँधवा देते हैं

हर पैसे का लोभी इसमें सशर्त समर्थन भी देता है.

कम शब्दों में सही तस्वीर पेश करने का धन्यवाद.

होली पर आपको ढेरों बधाइयाँ, मुबारकवाद एवं हार्दिक शुभकामनाय.

Rakesh Kumar Singh ने कहा…

Is rachna ke liye badhai swikaren.

मीत ने कहा…

सच में...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!
सुंदर अभिव्यक्ति...
मीत

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

अच्छी कविता है भई इसके लिये बधाई और होली मुबारक....

PN Subramanian ने कहा…

यह तो आजकी सामाजिक विकृतियों का प्रतिबिम्ब लगा. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. आभार,. नेट के काम न करने से हम वंचित हो गए थे.

संतोष कुमार सिंह ने कहा…

देर से ही सही होली की ढेर सारी शुभकामनाये जल्द ही ब्लांग के दुनिया में लौट रहा हँ,
मैं भी आज की सभ्यता के झंझावत में कही खो गया था उम्मीद हैं नये उत्साह के साथ वापस लौटुगा।

Harkirat Haqeer ने कहा…

Sandya ji, sayad aapke blog pe pehli bar aayi pr aapki ye paktiyan dil chu gayin ...sayad inme wahi vyatha hai jo ek aurat ke andar kahin ghutti rahti hai....Bhot bhot ...BDHAI...!!

G M Rajesh ने कहा…

webduniya मुख पृष्ठ>>फोटो गैलरी>>धर्म संसार>>त्योहार>> होली के रंग भगोरिया के संग ! (Holi - Bhagoriya Festival Photogallery)
log on kare aur
bhagoriyaa ke drushyo se avgat ho le

BrijmohanShrivastava ने कहा…

अत्यधिक गंभीर

JHAROKHA ने कहा…

Sandhya ji,
yatharth ko darshane valee sashakt kavita.....
Poonam

Beautiful Nature ने कहा…

kya baat hai! bahut khoob

विक्रांत बेशर्मा ने कहा…

तर्क गलत को भी सच साबित कर देता है ...बहुत ही अच्छा लिखा है आपने !!!!!!!!

रचना गौड़ ’भारती’ ने कहा…

ब्लोगिंग जगत में स्वागत है ।
लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
सुन्दर रचना के लिए बधाई
भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है ।
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
www.rachanabharti.blogspot.com
कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
www.swapnil98.blogspot.com

अल्पना वर्मा ने कहा…

ek shsakt rachanaa.
gambhir soch.

kumar Dheeraj ने कहा…

संध्या जी आपने हमार सभ्यता के ऊपर जो लिखी है वही हकीकत है हमारे समाज की हमारे सभ्यता की । इस सभ्यता में नारी के साथ क्या हो रहा है वह भी आपने सच ही लिखा है । हकीकत की मिशाल आपने पेश की है शुक्रिया

बेनामी ने कहा…

Vastav me yah sabhyata nahin kuch aur hai.

सुशील कुमार ने कहा…

संध्या गुप्ता का कवि सरल शब्दों के पतवार से जीवन - सागर की अतल गहराईयों की थाह लेता है। जीवन की विसंगतियाँ,सभ्यता की विडंबनायें और जन - बातों की प्रस्तुति में जनता का दु:ख शामिल होकर कवयित्री के शब्द-कर्म को साहित्य का वह आईना बनाती है जिसमें समकालीन कविता अपना चेहरा देख सकती है और गर्व भी कर सकती है। इस कविता में आधुनिक सभ्यता की विद्रुपताओं को जितना सरल-सहज और बोधगम्य करके प्रस्तुत किया गया है,वह इसका विशेष गुण माना जाना चाहिये। कविता जितनी सरल है , भाव उतना ही संश्लिष्ट है। नि;संदेह यह कविता काव्य के उच्च प्रतिमानों को पाठक के सामने रखती है।

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

यहाँ बलत्कृत स्त्री अदालत में पुनः एक बार कपड़े उतारती है
मुझे भरोसा है जंगल के न्याय पर पूरा का पूरा
कोई घर यूँ ही नहीं छूट जाता अधूराकोई ज़मीन यूँ ही नहीं रह जाती बाँझ
दोराहे पर खड़ी लड़िकयाँ गणितज्ञ होती हैंलेकिन कोई सवाल हल नहीं कर पातीं!
गोश्त की आस में आँखों को मटमटाता अवसर की ताक में....
कुम्हार नहीं बनाता रेत से बर्तनरेत के कण आपस में कभी पैवस्त नहीं हो सकते !
लौट कर आओगेऔर अपनों के बीच अपने कपड़ो और जूतो से पहचाने जाओगे...!वहां वह संसार नहीं मिलेगा !!
उस रंगरेज के रंगों में धुलना चाहती हूं जो कहता है- कपड़ा चला जायेगा बाबूजी! पर रंग हमेशा आपके साथ रहेगा
कोई नहीं था कभी यहां इस सृष्टि मेंसिर्फ मैं... तुम....और कविता थी!

संध्या ,
तुम सुबह हो
सम्वेदनाओं से भरी
और तुम्हारी कवितायें
नदी हैं
प्रतिको और बिम्बों की
उत्ताल लहरों से भरी
जिसमे उछाह है
मानवता के उत्कर्स
और उठान के लिए
जो साथ लिए चलती है
पथ्थरों को
धीरे धीरे रेत में बदलती
संध्या
तुम संध्या हो
जहाँ विश्राम पाता है
पीड़ा और थकन का स्वर
तुम हो बहता
शीतल झरना झर झर

mark rai ने कहा…

यह बहुत चालाक सभ्यता है
यहाँ चिड़ियों को दाने डाले जाते हैं
और चिड़ियों को मारने के लिये बंदूकें भी बनती हैं ...अच्छा लगा यहाँ आकर.....
i found something different here...also thanks for comming on my blog.

हिमांशु पाण्डेय ने कहा…

सत्य वचन एक कडवा सच फिर भी नारी महान है इसीलिए वह दुनिया का बॊझ ऒर अत्याचार अपने उपर ढॊ रही है यह उसका बडप्पन ही है

अरविन्द श्रीवास्तव ने कहा…

चिडियां विषयक एक कविता अभी-अभी मेरे ब्लाग पर आयी है…। मेरा बचपन दुमका में बीता इसलिए भी यह ब्लाग मेरा प्रिय है……।

प्रदीप कांत ने कहा…

सबसे बड़ी बात है...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!

सही खाका.......

abhivyakti ने कहा…

ब्लॉग जगत पर अब रचनाओ ने अब बेहद ऊँचे प्रतिमान हासिल कर लिए है ,आपकी रचना इसका प्रमाण है .बधाई !

अरविन्द श्रीवास्तव ने कहा…

doaaba.blogspot.com आपकी साहित्यिक अभिरूचि के अनुरुप हो सकती है……

संदीप शर्मा Sandeep sharma ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना....

अवाम ने कहा…

हिली की आपको भी शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयाँ..

KK Yadav ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्तियाँ...बधाई !!
______________________________
गणेश शंकर ‘विद्यार्थी‘ की पुण्य तिथि पर मेरा आलेख ''शब्द सृजन की ओर'' पर पढें - गणेश शंकर ‘विद्यार्थी’ का अद्भुत ‘प्रताप’ , और अपनी राय से अवगत कराएँ !!

kavi kulwant ने कहा…

Nice to see yr blog.. and yr words..

हरि ने कहा…

आपके शब्‍दों की तारीफ करने के लिए मेरे पास शब्‍द नहीं हैं। बस! मैं आपको प्रणाम करता हूं।

रवीन्द्र दास ने कहा…

kavita sirf sundar nahi,marmantak bhi hoti hai, jo hai. hilakar rakh diya!

Bhor ka Tara ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.
bhootnath( भूतनाथ) ने कहा…

यह जो बात आपने कही.....दिलो-दिमाग को हिला कर रख गयी.....और गज़ब यह कि इस सभ्यता को ढोने को हम अभिशप्त भी हैं....!!

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

itne tippanikaro me sabse pichhe aour baad me padhne ka karan yah tha ki me pichhle 20 dino se baahar tha..
kher..
सबसे बड़ी बात है...
इस सभ्यता के पास अनुकूल तर्क है!
sachchai he, tarko ne sachchai ko bhi giraft me le rakha he.,ese me sirf shabd he jo vyakt hote he...
bahut sundar likha he aapne..

Rajesh Sharma ने कहा…

Kam aur saral sabdo me ati sundar rachna.

RAJESHWAR VASHISTHA ने कहा…

आपकी कविताएँ ताज़ा हवा के झोंके सी लगीं. प्रस्तुति और भी शानदार. कविता पुरस्कार के लिए बधाई...
www.rajeshwarvashistha.blogspot.com