शुक्रवार, 26 जून 2009

सुबह




सूर्य का गोला आसमान पे उजले रंग से लिखता है -
सुबह
और चमक उठती हैं इस धरती पर जल की तरंगें
जीवन के रंगों से भर कर

तरोताजा हो उठती है हवा किरणों से नहा-धोकर
हल-बैल लिये किसान उतर पड़ते हैं खेतों में
नई उमंग के साथ नई फसल बोने को

निकल पड़ती हैं चींटियां अपने बिलों से कतारबद्ध
अपने गंतव्य की ओर ....और
परिन्दे कभी नहीं ठहरते अपने घोंसलों में
सुबह होने के बाद

.......लेकिन मित्रो !
अफसोस! कि इधर बहुत दिनों से
सुबह नहीं हुई!

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.....!!


................................................

चित्र गुगल सर्च इंजन से साभार
....................................................................

57 टिप्‍पणियां:

MANVINDER BHIMBER ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.....!!

कितने सुंदर bhaaw हैं......लाजवाब

AlbelaKhatri.com ने कहा…

bahut khoob !

मीत ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.....!!

बहुत खूब ! क्या बात है !!

गिरिजेश राव ने कहा…

सुबह का इंतजार है कि
धान को मुँह धोना है
और ओस को उड़ना
फिर सोना है।
रात में जाग संवारना है
धान के धूल सने मुँह को।
फिर इंतजार करना है सुबह का।
... . . .

ऐसे ही लिख दिया। बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ हैं ये:

'इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का'

अद्भुत।

M Verma ने कहा…

.......लेकिन मित्रो !
अफसोस! कि इधर बहुत दिनों से
सुबह नहीं हुई!
-----------------------
अनोखा अन्दाज़ बहुत प्यारा

Udan Tashtari ने कहा…

क्या बात है..उम्दा भाव एवं बेहतरीन अभिव्यक्ति!!

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

बहुत सुंदर भाव लिये कविता । काली रात के बाद सुबह का हौना जरूरी है और वह हौगी क्यूं कि होती है ।
सुबह जरूर आयेगी सुबह का इन्तजार कर ।
गम की अंधेरी रात में दिल को न बे करार कर.....

ओम आर्य ने कहा…

प्राकृतिक प्रतिको से मन बिल्कुल बहने लगा मानो किसी तराई क्षेत्र मे पहुच गया जहाँ उंची उंची पर्वत और उसके बीच मै ..................आपकी कविता के साथ...

Prem Farrukhabadi ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का!!
लाजवाब!!!!!!!!

abhivyakti ने कहा…

थोडा और लड़ ले अंधेरों से 'पाखी'
उसने कहा था सुबह जरूर होगी...

बहुत खूबसूरत रचना एक खूबसूरत अंदाज के साथ..
बहुत अच्छी लगी..

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का...

सच kahaa............ सुबह का intzaar sabko rahtaa है........... और सुबह jaroor आती है, lambee ghanee kaali रात के बाद............ behatreen rachnaa

‘नज़र’ ने कहा…

बेहतरीन रचना

---
चाँद, बादल और शामगुलाबी कोंपलें

Murari Pareek ने कहा…

ये तो प्रकृति का नियम है हर काली रात के बाद सुबह होती है,
गम के बाद ख़ुशी होती है !!
पर इसके लिए थोड़े साहस और थोड़े ढाँढ़स की जरुरत होती है !!
बहुत सुन्दर रचना है आपकी !!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

रोज सुबह आयेगी,
शाम ढलेगी,
रात आयेगी
और
फिर सुबह होगी,
पर इन्तजार
खत्म न होगा।
संसार की
यही तो
नियति है
और
शायद
इसी
का नाम
दुनिया है।

रानी पात्रिक ने कहा…

धरती से जुड़ी कविता। किसान और हल का संबोधन कहीं अपने दिनों की याद दिलाता है। बहुत सुन्दर।

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

bahut HEE sundar
har baar kee tarah

JHAROKHA ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.....!!

्बहुत अच्छी बात कही है आपने ----सुबह तो हमारे अन्दर एक नई स्फ़ूर्ति लेकर आती है ।इसके बिना जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती ।
पूनम

creativekona ने कहा…

निकल पड़ती हैं चींटियां अपने बिलों से कतारबद्ध
अपने गंतव्य की ओर ....और
परिन्दे कभी नहीं ठहरते अपने घोंसलों में
सुबह होने के बाद
......लेकिन मित्रो !
अफसोस! कि इधर बहुत दिनों से
सुबह नहीं हुई!

संध्या जी ,
आपकी चिंता जायज है ...जब चींटियों ,और परिंदों को सुबह की चिंता है तो ..
हम तो मनुष्य हैं ....अच्छी कविता .
हेमंत कुमार

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.

ये लाईने दिल को छू गई।

kumar Dheeraj ने कहा…

संध्या जी बेहद भावुक तरीके से आप लिखती है । इस बार का प्रसंग भी बेहद प्राकृतिक है । इस प्रसंग में आपने सुवह की जो भावभंगिमा की है लाजबाब है । अति सुन्दर धन्यवाद

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

kaafi dino baad aapki koi rachna baachne ko mili.
jin panktiyo ne prabhavit kiya vo kai tippanikaaro ne ullekhit kar diya he/ aapki rachna me gahara bhaav nepathya me apni baat kahataa hua prateet hota he/
os ko bhi chahiye subah taaki vo bhi chamke, khile..// aour subah he ki...intjaar me ked he.

Dr.Ajay Shukla ने कहा…

.......लेकिन मित्रो !
अफसोस! कि इधर बहुत दिनों से
सुबह नहीं हुई!

Sandhya ji mere vichar me ye panktiyan hi kavita ki sabse mahatvpurn panktiyan hain.

Aur yah subah yun hi nahin aane wali...

ज्योति सिंह ने कहा…

र्य का गोला आसमान पे उजले रंग से लिखता है -
सुबह
और चमक उठती हैं इस धरती पर जल की तरंगें
जीवन के रंगों से भर कर .
bahut khoob likhati hai aachchha laga padhkar .

प्रकाश गोविन्द ने कहा…

बेहतरीन पोस्ट की निरंतरता कायम रखी है आपने !
लेकिन मेरे दिल में आपकी पिछली पोस्ट (वो फक्कड़ थे...) की अनुभूतियाँ इस कदर गहरी हैं कि उनसे मैं कभी मुक्त नहीं हो पाऊंगा !

आपकी इस रचना की आख़िरी पंक्तियाँ सब कुछ कह जाती हैं :
लेकिन मित्रो !
अफसोस! कि इधर बहुत दिनों से
सुबह नहीं हुई!

सवाल ये भी है कि हम इस सुबह के लिए किसका इन्जार कर रहे हैं ....... अवतारों का युग बीत चूका है .. कौन लाएगा सुबह ?

आज की आवाज

Pakhi ने कहा…

Bahut sundar kavita...Mere blog par meri bhi Picture dekhen.

vishnu sah ने कहा…

Mere vichar me aapki kavitaon me sabse khas unka ant hota hai.Is baar bhi aapne nirash nahin kiya.

प्रदीप कांत ने कहा…

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.....!!

AAS BHARI PANKTIYAN

mark rai ने कहा…

wakai behad...aandolit karne waali rachna...kaaphi dino se to subah hui hi nahi...ye man ki bechaini ko pradarshit karta hai....

Nirmla Kapila ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.....!
हाँइन्तज़ार तो रहता है पर कब हुई ये पता नहीं चलता बहुत गहरे भव लिये सुन्दर रचना आभार्

Dileepraaj Nagpal ने कहा…

Bhaut Khoobsurat

कंचनलता चतुर्वेदी ने कहा…

"बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद"
रचना बहुत अच्छी लगी....

hem pandey ने कहा…

इस सुंदर रचना के लिए साधुवाद.

GAURAV ने कहा…

bahup behtareen rachna pesh ki hai aapne

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ है!

दर्पण साह "दर्शन" ने कहा…

.......लेकिन मित्रो !
अफसोस! कि इधर बहुत दिनों से
सुबह नहीं हुई!


....apke mantavya samajh gaye !!

...aur samajh kar der tak manthan karte rehe !!

acchi rachna ke liye badhia !!

शोभना चौरे ने कहा…

aehad sundar abhivykti ashavadi soch .
apke blog par phli bar hi aana hua .
achha likha hai aapne .

अल्पना वर्मा ने कहा…

बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का.

बहुत खूब !

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

"बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद"
लाजवाब..रचना बहुत अच्छी लगी....

रवीन्द्र दास ने कहा…

kavita bandh gaee. aur adhik fail sakti thi. to bhi, badhaee.

अभिनव भारद्वाज ने कहा…

last paragraph seriously bahut achcha hai!

KISHORE KALA ने कहा…

lekin afshos ki abhi tak subah nahi hui........ sachmuch sandhyaji
bastawikata me jeene wala kawi hi prakriti ki sundarata bhi dekhata hai to use wo bhi dikhai de jata hai jo aam adami ki najaron se nahi dekha ja sakta .badhai.

Dev ने कहा…

Bahut sundar rachana..really its awesome...

Regards..
DevSangeet

tarav amit ने कहा…

"नई सुबह और गयी शाम में फर्क यही है ..
उम्मीद जगाती एक बुझाती जो एक गयी है!!"..
-अच्छी रचना !!

मुकेश कुमार तिवारी ने कहा…

संध्या जी,

इन पंक्तियों को गुनगुनाने का मन कर रहा है :-

" वो सुबह कभी तो आयेगी..."

बहुत अच्छी कविता।

सादर,

मुकेश कुमार तिवारी

हितेंद्र कुमार गुप्ता ने कहा…

sundar abhivyakti

"MIRACLE" ने कहा…

रात के बाद सुबह का.. ....बहुत ही सुन्दर कविता ....

vikram7 ने कहा…

इन्तज़ार है धान को ओस का
और ओस को एक सुबह का
अति सुन्दर

इशमेलावाला ने कहा…

ऐसा लगा यह एक अच्छी कविता की शुरुआत मात्र है. जिन खूबसूरत भावों को लेकर आगे बढीं, उसे और आगे ले जाना चाहिये था. कविता बहुत कुछ कहना चाहती है, उसे और मौका दें. (this is not an expert view, just a feeling.)

HinBlogNet ने कहा…

हिन्दी ब्लॉग नेटवर्क पर अपना ब्लॉग बनायें और अपने उत्कृष्ट लेखों की कीमत वसूल करें। आप अपना मौजूदा ब्लॉग वहां इम्पोर्ट कर सकते हैं।

Shama ने कहा…

Aaj bade manoyog se aapki rachnayen padhee...khamosh hun...stabdh hun...

http://shamasanmaran.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://lalitlekh.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://shama-kahanee.blogspot.com

http://shama-baagwaanee.blogspot.com

http://fiberart-thelightbyalonelypath.blogspot.com

kumar Dheeraj ने कहा…

पहले से भी आप लिखती रही है । खासकर प्रकृति के साथ आपकी कविताई सोच बेमिसाल है ।
बेहद जरूरी है सुबह का होना
एक लम्बी काली रात के बाद
बहुत अच्छा लिखा है आपने । शुक्रिया

Brijmohanshrivastava ने कहा…

लम्बी काली रात के बाद जरूरी है सुबह होना लेकिन यहाँ अभी सुबह नहीं हुई ,बहुत अच्छा चित्रण |परिंदे कभी नहीं ठहरते अपने घोंसलों में सुबह होने के बाद |किसान निकल पढ़ते हैं हल बैल के साथ |अच्छी रचना

adwet ने कहा…

सचमुच काफी अच्छे भाव बने हैं। बधाई।

adwet ने कहा…

सचमुच काफी अच्छे भाव बने हैं। बधाई।

संतोष कुमार सिंह ने कहा…

पिंकी इस देश की बेटी हैं जिसे कुछ दरिंदो ने इस हालात में पहुचा दिया हैं जहां से बाहर निकलने में आप सबों के प्यार और स्नेह की जरुरत हैं।

adwet ने कहा…

आपकी कविता बहुत अच्छी लगी।

rachana koli ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है.