शनिवार, 8 नवंबर 2008

कुछ भी नहीं बदला

सन्दूक से पुराने ख़त निकालती हूँ
कुछ भी नहीं बदला...
छुअन
एहसास
संवेदना!

पच्चीस वर्षों के पुराने अतीत में
सिर्फ़
उन उँगलियों का साथ
छूट गया है...

.................................................................................

53 टिप्‍पणियां:

निरन्तर - महेंद्र मिश्रा ने कहा…

बढ़िया कल्पना है . धन्यवाद्.

संजीव तिवारी ने कहा…

सुन्‍दर .......

mehek ने कहा…

chahe waqt age jaye,bhavna wahi rehti hai,bahut khub

Udan Tashtari ने कहा…

बड़ी गहरी बात!!

सतीश सक्सेना ने कहा…

चार लायनों में अथाह वेदना की अभिव्यक्ति बहुत कम जगह देखी जाती है !शुभकामनायें !

"अर्श" ने कहा…

chand lafjo me aapne to zindagi ki dastan suna di,,... bahot hi dard bhara hai ..bahot khub likha hai aapne .......

aapka mere blog pe swagat hai ummid karta hun aap padharengi.......

मीत ने कहा…

Bahut badhiya.

Vivek Gupta ने कहा…

सुंदर |

शोभा ने कहा…

पच्चीस वर्षों के पुराने अतीत में
सिर्फ़
उन उँगलियों का साथ
छूट गया है...
बहुत प्रभावी लिखा है. सच्ची अनुभूति.

समीर यादव ने कहा…

संदूक से पाती नहीं आपने.... एक जीवन निकाला...
सहज अभिव्यक्ति....बिना आडम्बर...के.

अल्पना वर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर लिखा है!

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

सुंदर रचना के लिये आपको बधाई

Pawan Nishant ने कहा…

बाजार में जब सभी बिकने वाली
चीजें खरीदी जा रही थीं
तुम्हारा अंतिम प्रेम पत्र छिपाने को
मैंने खरीदा एक संदूक
जब बड़ी कविता बड़े शिल्प बड़े कैनवस
बड़े हादसे बड़ी खुशियां और बड़े फरेब
बदले जा रहे थे रुपयों में
एक संदूक में बदल लिए मैंने रुपए
तुम्हारे जैसा छिछोरापन
तुम्हारे जैसी लालसाएं
तुम्हारे जैसी मुस्कराहटें
झांक रही थीं अपने-अपने फ्रेम से
उन्हीं में झांक कर पढ़ा मैंने
उसी बाजार में तुम्हारा प्रेम पत्र
और खऱीद लिया एक संदूक ताकि
जब कांपने लगें मेरी उंगलियां
तुम्हारी छुअन पोर पोर बांचे आंखर
ताकि जब पसीज उठे बाकी संवेदना
पच्चीस साल बाद उंगली बदल जाने का
मुझे एहसास न हो

aapke shabd kavi banane ka kaam karte hain. Dhanybad.

dr. ashok priyaranjan ने कहा…

जीवन के सच को साथॆक तरीके से अिभव्यक्त िकया है । अच्छा िलखा है आपने ।

http://www.ashokvichar.blogspot.com

हरि ने कहा…

दिखने में छोटन लगे घाव करे गंभीर।

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

बेहद भावुक कर देने वाली रचना ।

raj ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है आपने. बधाई.

Dr. Nazar Mahmood ने कहा…

अच्छी है रचना

makrand ने कहा…

bahut khubsurat
bahut kuch kahdiya
sirf iten kum shaboan me
regards

Dr. Chandra Kumar Jain ने कहा…

समय के साथ एहसास की
बदलाहट को सुंदर अभिव्यक्ति दी है आपने.
....पर कमाल यह है की चंद शब्दों में
उस फ़र्क का सबब भी बयां कर दिया.
==============================
शुभकामनाएँ
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

bahadur patel ने कहा…

bahut achchhi kavita hai.pachchis varshon ko apane bahut kam kar diya. jisaka ehasas kai sadiyon tak jata hai.badhai.

जीवन सफ़र ने कहा…

बेहतरिन!

Dr.Bhawna ने कहा…

आपकी पंक्तियां आज़ दिल को छू गईं कुछ कहने को शब्द ही नहीं हैं ...

Sachin Malhotra ने कहा…

U have a nice blog...

http://spicygadget.blogspot.com/

BrijmohanShrivastava ने कहा…

अत्यन्त भाव प्रधान ,करुण,सम्बेदनशील

singhsdm ने कहा…

ultimate emotional poem....

बेनामी ने कहा…

nice poem

Jimmy ने कहा…

Bouth Aacha post Hai Ji


Shyari is here plz visit karna ji

http://www.discobhangra.com/shayari/romantic-shayri/

adil farsi ने कहा…

good poetry!

rewa ने कहा…

Hi Sandhyaji, beautiful poem. Sahi kaha aapne...kuch bhi nahi badla...bus waqt aage bhag jata hai.

Akancha Kesarwani ने कहा…

आपने छोटे में बहुत लिखा. लाजवाब, दिल को छू लेने वाली

नारदमुनि ने कहा…

kya baat hai. gagar me sagar. narayan narayan

अवाम ने कहा…

सुन्दर
खुशनसीब है कि आपके जमानें में कम से कम चिट्ठियां आया करती थी. हमारी पीढी तो इससे वंचित ही रह गई.

bhoothnath ने कहा…

anguli to aapke saath hi hai...unhe thoda sa ye kaam bhi de dijiye...unko bhi atit ki chhuwan kaa ahasaas ho jayegaa...ek chhoti-si...nanhi-si..pyaarisi..kavita... acchhi lagi...sach...

अनुपम अग्रवाल ने कहा…

कुछ भी नहीं बदला...
छुअन
एहसास
संवेदना!

wah ,bahut khoob

कुमार मुकुल ने कहा…

आप सब का सहयोग इसी तरह मिलता रहा तो कारवां बढता रहेगा आप अपनी कविताएं कारवां पर भी दें

vandana ने कहा…

bahut sahi kaha,kuch nhi chutta bas ungliyon ka sath hi chutta hai

Akshaya-mann ने कहा…

वक्त के हाथों हम बदल जाते हैं हमारा अतीत वो सामान वही रहेता है
वो एहेसास तक जिन्दा रहता है .....
वक्त की ताकत को समझा दिया.........
बहुत उम्दा............

मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है आने के लिए
आप
๑۩۞۩๑वन्दना
शब्दों की๑۩۞۩๑
सब कुछ हो गया और कुछ भी नही !!
इस पर क्लिक कीजिए
मेरी शुभकामनाये आपकी भावनाओं को आपको और आपके परिवार को
आभार...अक्षय-मन

Zakir Ali 'Rajneesh' ने कहा…

बहुत खूब।

वास्‍तव में बदलाव सिर्फ वाहय रूप में होता है। जो मन बदल जाए, वह मन नहीं बेमन होता है, बेईमान होता है।

Akshaya-mann ने कहा…

मैंने मरने के लिए रिश्वत ली है ,मरने के लिए घूस ली है ????
๑۩۞۩๑वन्दना
शब्दों की๑۩۞۩๑

आप पढना और ये बात लोगो तक पहुंचानी जरुरी है ,,,,,
उन सैनिकों के साहस के लिए बलिदान और समर्पण के लिए देश की हमारी रक्षा के लिए जो बिना किसी स्वार्थ से बिना मतलब के हमारे लिए जान तक दे देते हैं
अक्षय-मन

Akanksha ने कहा…

सन्दूक से पुराने ख़त निकालती हूँ
कुछ भी नहीं बदला
छुअन
एहसास
संवेदना!......... भावनाओं की मूक अभिव्यक्ति कम ही देखने को मिलती है..बधाई स्वीकारें !!

Poonam Agrawal ने कहा…

Dil ki gahraiyo ki aavaj paathak tak pahuchana kathin kaam hai ...jo aapne bakhoobi nibhaya hai....badhai..

तीसरा कदम ने कहा…

मैंने आज पहली बार आपके ब्लॉग को पढ़ा बहुत अच्छा लिखा.

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

aapki ye kavita apne aap mein ek kahani hai .
bus koi inme doob jaayen aur kahin kho jaayen ..

itni acchi kavita ke liye badhai..

regards,

Vijay
http://poemsofvijay.blogspot.com/

MUFLIS ने कहा…

"...mn ke kisi kone mei sehma saada.sa ehsaas, waqt ki dhara ke sath beh raheeN khwahishoN ki pakeeza karvatieN, halaat ki ravaayat ko nibhate hue imaandaar fraaeez...inn sb ka bahot hi shaeesta aur nafees izhaar hai aapki ye kavita..."
mubaarakbaad...!!
---MUFLIS---

सबकी कहानी ने कहा…

आपकी कुछ कविताएँ पढ़ी...बहुत अच्छी सोच है आपकी. साधुवाद

Rakesh Kumar Singh ने कहा…

Mantamugugdh kar diya aapne.

Amit ने कहा…

chaar line main he aapne sab kuch keh diya...
bahut hee sundar aviwaekti hai.....

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

gahari panktiya.n....! gahre bhav..! prashansha ko shabda nahi.

kumar piyush ने कहा…

Meri tippani pachaswi hai jise dene ke liye main badhai ka patr hoon.Vaastav me achchi kavita.

सुशील कुमार ने कहा…

प्रेम विद्रोह की जननी है और प्रकृति का नैसर्गिक गुणधर्म भी। संघर्ष और द्वंद्व के कवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ ने भी ‘उर्वशी’ जैसी रचना के माध्यम से अपने प्रेम को शब्द दिये जिस पर उन्हें ज्ञानपीठ जैसे पुरस्कार से नवाजा भी गया।कहने का गरज़ इतना ही कि कोई भी उससे अछूता नहीं। पर उसकी संवेदना काल की चोट से आहत होकर धाराशायी होते रहे हैं, यही सांसारिक प्रेम की व्यामोह या कहे उसकी परिणति या नीयति है पर हृदय में उसका अक़्स तो लम्बे अरसे तक विद्यमान रहता ही है ! बड़ी मार्मिक अभिव्यक्ति है इस कविता में पर मैं संध्या जी से गुजारिश करूँगा कि इसमें उनके अनुभव के और भी कई तार होंगे जो छूट गये प्रतीत होते हैं जिससे कविता को विस्तार देकर उन्हें बढ़ाना चाहिये।-सुशील कुमार।

प्रदीप मानोरिया ने कहा…

लाज़बाब इससे अधिक कुछ कहना अशक्य है

abhivyakti ने कहा…

aap ki rachna pad kar ankh main ansu aa gaye or dil tak chot hui
bhut achchha kahna kam hai
adwatiy