शुक्रवार, 10 अक्तूबर 2008

उस स्त्री के बारे में

करवट बदल कर सो गई
उस स्त्री के बारे में तुम्हे कुछ नहीं कहना!

जिसके बारे में तुमने कहा था
उसकी त्वचा का रंग सूर्य की पहली किरण से
मिलता है

उसके खू़न में
पूर्वजों के बनाये सबसे पुराने कुएँ का जल है

और जिसके भीतर
इस धरती के सबसे बड़े जंगल की
निर्जनता है

जिसकी आँखों में तुम्हें एक पुरानी इमारत का
अकेलापन दिखा था
और....जिसे तुम बाँटना चाहते थे
जो... एक लम्बे गलियारे वाले
सूने घर के दरवाजे पर खड़ी
तुम्हारी राह तकती थी!

........................................................ ं

10 टिप्‍पणियां:

ravishndtv ने कहा…

बहुत अच्छी कविता

Pawan Nishant ने कहा…

bahut pyari kavita likhi hai aapne. Aaj pahli bar Aapka blog dekha, apne mann jasi baat se bahut khushi hui.

bhoothnath ने कहा…

तकते-तकते राह आँख थक गई होगी....
रूह जिस्म से निकल कर
कहीं और चली गई होगी.....
आने वाले के कदम.....
किसी और दिशा में......
मुड़ गए होंगे.....
रात भी थक कर....
सो गई होगी.....
सुबह किसी बच्चे-सी निकल,
मचल गई होगी.....
आने वाला कुछ सोचता होगा..
सबा बहकती हुई-सी कानों में
कुछ कहती-सी होगी....
जिस्म से इक धुंआ-सा
निकलता होगा....
सोच में कुछ पिघलता....
हुआ-सा होगा....
आने वाला आता ही होगा....
साँस भी थम-सी गई होगी...
आने वाला बस.....
अभी ही आने को है......
दिल की हर धड़कन...
सुबक कर रह गई होगी....
आने वाला..........
बस आया ही आया.....
मगर ....ऐ दिल
आने वाले को गर ....
आना ही होता...
तो अब तक आ ही ना जाता...!!

kumar piyush ने कहा…

Bahut achchi kavita

bahadur patel ने कहा…

bahut achchhe se apane is kavita ko likha. stri vimarsh ki tarah se. badhai.

नव्‍यवेश नवराही ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी कविता

rewa ने कहा…

Beautiful Poetry!

राजकिशोर ने कहा…

बहुत बढ़िया ।

batkahi ने कहा…

maine pehli bar is ghar ka rasta dekha...itni achhi kavita ke baad to nigaah bar bar idhar uthegi

meri spasht manyata hai ki stree anubahv ko ham purush kabhi us shiddat aur saafgoi ke sath nahi vyakt kar sakte jaise ek stree

hal me padhi ek philistini yuva kaviyitri ki kavita ki aisi hi kuchh panktiyan apko sunata hun jo koi purush sau janam me bhi nahi likh sakta:pyar ke bare uska najariya tha bilkul ganwai kisan jaisa...adhiktar log karte hain pyar kisi shikari jaisa...aur shikariyon jaisa hi jibah kar dalte hain...apni nigah me anewali sabse priy chaahat ko hi...

rewa ने कहा…

Aapne bahut dino se kuch bhi nahi dala hai...!Waiting for new one.